RBI क्या है? RBI Full Form, RBI की पूरी जानकारी हिंदी में

0
59
rbi ka full form

क्या आप ‘बैंकों के बैंक’ RBI के बारे में जानते हैं? क्या आपको पता है की RBI Ka Full Form क्या है? अगर नहीं तो आप सही जगह हैं क्योंकि आज हम बात करेंगे RBI के Full Form, RBI क्या है? RBI की स्थापना कब हुई? तथा RBI से जुड़ी सभी जानकारियों के बारे में। जैसा कि आप जानते हैं RBI भारत के सभी बैंकों के संचालन करने का काम करता है।

इसके अलावा यह भारतीय अर्थव्यवस्था को नियंत्रित करने, भारत सरकार के अधीन कार्य करने व देश की अर्थव्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने में भी मदद करता है। इसीलिए RBI के बारे में जानना जरूरी है। RBI से संबंधित प्रश्न कई बार कई Competitive Exams में पूछे जाते हैं। तो आइए शुरू करते हैं:-

RBI Ka Full Form क्या है?

RBI Full Form In English “Reserve Bank Of India” और RBI ka Full Form हिंदी में “भारतीय रिजर्व बैंक” है। इस बैंक को “बैंको का बैंक” भी कहा जाता है और ऐसा क्यों कहता है वो हम आपको आगे इस लेख में बताने वाले है। इसलिए रब के बारे में और अधिक जानकरी और कुछ महत्वपूर्ण फैक्ट्स जानने के लिए इस लेख को जरूर पढ़े।

RBI क्या है?

RBI या भारतीय रिजर्व बैंक एक ऐसा केंद्रीय बैंक है जिसका काम होता है भारत सरकार के सलाहकार व एजेंट के रूप में काम करना। इस बैंक को भारत के प्रधानमंत्री द्वारा नियंत्रित किया जाता है। दरअसल, यह बैंक भारत में मौजूद सभी बैंकों को संचालित करता है। इसके अलावा इसका काम होता है भारत की अर्थव्यवस्था को नियंत्रित करना। अर्थव्यवस्था को नियंत्रित करने के लिए यह भारत कि सभी मुद्राओं का हिसाब किताब अपने पास रखता है। इसके साथ ही यह मुद्राओं को छापने, खराब हो चुके मुद्राओं को नष्ट करने का भी काम करता है। RBI Asian Clearing Union का भी सदस्य हैं।

rbi ka full form
Image Credit: RBI

भारत में RBI के 29 Offices है। पहले इस बैंक को “The Imperial Bank Of India” के नाम से जाना जाता था। आगे जाकर इसका नामकरण कर इसे भारतीय रिजर्व बैंक में तब्दील किया गया।

RBI कहा स्थित है?

पहले भारतीय रिजर्व बैंक का मुख्यालय कोलकाता हुआ करता था। 1937 में इसे मुंबई में स्थानांतरित किया गया था। जानकारी के लिए आपको बता दे, RBI के Headquarters में Governors बैठते हैं और इसी जगह पर विभिन्न नीतियों का निर्धारण किया जाता है।

RBI की स्थापना कब की गई थी?

बहुत सारे लोगों का यह सवाल होता है कि आखिर RBI की स्थापना कब की गई थी? इसलिए हम आपको बता दें, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI ka full form) की स्थापना 1 अप्रैल 1935 को की गई थी। इसकी स्थापना रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया एक्ट 1934 के अंतर्गत की गई थी। RBI को स्थापित करने में भारत के अर्थशास्त्री डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की महत्वपूर्ण भूमिका रही क्योंकि अंबेडकर जी ने ही इस बैंक की स्थापना के लिए दिशा निर्देश दिए थे।

लेकिन जब RBI की स्थापना की गई थी तब इसका राष्ट्रीयकरण नहीं किया गया था। चूँकि इस बैंक की स्थापना ब्रिटिश अधिकारियों द्वारा की गई थी इसीलिए उस दौरान यह एक निजी स्वामित्व वाला बैंक था। लेकिन जब भारत को स्वतंत्रता मिली तब इसका राष्ट्रीयकरण 1 जनवरी 1949 में किया गया। राष्ट्रीयकरण की प्रक्रिया के बाद से अब भारत सरकार का RBI पर पूरी तरह से नियंत्रण है।

RBI के क्या कार्य है?

  • ऋण देना: RBI को बैंकों का बैंक कहा जाता है यह अन्य बैंकों और ग्राहकों के लिए भी कार्य करता है। इसके साथ ही यह ऋणदाता के रूप में कार्य करता है।
  • नोट छापना: भारतीय रिजर्व बैंक ही देश में नोटों की छपाई करता है। हालांकि 1 रुपए के नोट को छोड़कर सभी तरह के नोटों को जारी करने का अधिकार रखता है। दरअसल 1 रूपए के नोट को वित्त मंत्रालय द्वारा जारी किया जाता है। रिजर्व बैंक द्वारा नोटों को जारी करने के लिए एक प्रणाली का इस्तेमाल किया जाता है, इस प्रणाली का नाम न्यूनतम रिज़र्व प्रणाली (Minimum Reserve System) है।
  • विदेशी मुद्रा का भंडारण करना:- RBI भारत में विदेशी मुद्रा की विनिमय दर को सुनिश्चित रखने के उद्देश्य से कार्य करता है। यह विदेशी मुद्राओं की खरीदारी तथा विक्रय भी करता है जिससे यह विदेशी मुद्राओं का भंडारण करता है, जब भारत में विदेशी मुद्रा की आपूर्ति कम हो जाती है तब RBI द्वारा विदेशी मुद्रा की आपूर्ति को देश में बढ़ाया जाता है।
  • भारत सरकार का प्रतिनिधित्व:- RBI भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करता है यह विश्व बैंक और IMF के प्रतिनिधित्व के जरिए क्रेडिट नियंत्रण और देश की मौद्रिक नीति को जारी करता है।

RBI के गवर्नर का नाम क्या है?

वैसे तो RBI में कई गवर्नर आए लेकिन वर्तमान समय में RBI के गवर्नर का नाम शक्तिकांत दास है। उन्होंने 11 दिसंबर 2018 में RBI के नए गवर्नर के रूप में पद ग्रहण किया था। उनसे पहले उर्जित पटेल RBI के गवर्नर थे।

RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास सन 2015 से लेकर 2020 तक आर्थिक मामलों में सचिव पद पर काबिज रहे थे। उसके बाद 2018 में जाकर उन्होंने RBI के गवर्नर का पद ग्रहण किया। जानकारी के लिए बता दें, RBI के गवर्नर का कार्यकाल 3 साल का होता है। इसके अलावा इसमें वर्तमान में 3 Deputy Governor कार्यरत है। इन तीनों डिप्टी गवर्नर का नाम बीपी कानूनगो, एनएस विश्वनाथ, एमके जैन है।

RBI के बारे में रोचक तथ्य

हम भारतीय रिजर्व बैंक के बारे में कुछ Interesting Facts बताएंगे। तो आइए जानते हैं:-

  • पहले भारतीय रिजर्व बैंक (RBI ka Full Form) का नाम “Imperial Bank Of India”था। लेकिन आगे जाकर इसके नाम को बदल कर “Reserve Bank Of India” कर दिया गया।
  • RBI के जरिए Currency नोट को बनाया जाता है वही सिक्कों को बनाने का काम भारत सरकार द्वारा किया जाता है।
  • जैसा कि आप जानते हैं भारत में वित्तीय वर्ष 1 अप्रैल से 31 मार्च तक होता है। लेकिन RBI में यही वित्तीय वर्ष 1 जुलाई से 30 जून तक होता है।
  • RBI में यह नियम लागू किया गया है कि यदि आपके पास एक से ₹20 तक के नोट 50 फ़ीसदी से ज्यादा फटे हैं तो आपको पैसे नहीं दिए जाएंगे। लेकिन यदि यही नोट 50 फ़ीसदी से कम फटे हैं तो आपको आपके पूरे पैसे वापस कर दिए जाएंगे।
  • RBI के Logo में ताड़ का पेड़ और बाघ बना है।
  • RBI से भारत के अलावा दो अन्य देशों के केंद्रीय बैंक के रूप में भी काम कर चुका है। दरअसल, 1947 तक यह म्यांमार का केंद्रीय बैंक था। वही 1948 तक यह पाकिस्तान का भी केंद्रीय बैंक रह चुका है।
  • RBI के पूर्व गवर्नर में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह का नाम शुमार है।
  • RBI में दो ऐसे गवर्नर रह चुके हैं जिनके द्वारा नोटों पर सिग्नेचर नहीं किया गया था। इनका नाम K G Ambegaonkar और Osborn Orkal है।

ये भी जरूर पढ़े:

निष्कर्ष (Conclusions):

इस पोस्ट के जरिए हमने जाना RBI क्या है? RBI Ka Full Form क्या है? तथा RBI के बारे में पूरी जानकारी। हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी आपको कैसी लगी यह हमें Comment Section में बताएं। अगर आपका कोई सुझाव या प्रश्न हो तो हमें Comment Section में पूछे। यदि पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ Social Media के प्लेटफार्म में शेयर करें।