CSO Full Form, CSO क्या है? CSO की जानकारी हिंदी में

0
101
cso full form

इस लेख में हम आपको बताएंगे कि CSO Full Form क्या होता है? CSO क्या है? CSO की गतिविधियां? CSO के कार्य तथा इसके के संगठन के बारे में। CSO एक महत्वपूर्ण सांख्यिकी कार्यालय होता है जो कि भारत में सांख्यिकीय गतिविधियों के समन्वय के लिए जिम्मेदार होता है। इसके साथ ही यह सांख्यिकीय मानकों को भी विकसित करता है और उन्हें बनाए रखता है। ऐसे में CSO के बारे में जानकारी हासिल करना जरूरी होता है।

अक्सर कई Exams में भी CSO के बारे में Questions किए जाते हैं इसीलिए बहुत सारे लोग CSO के बारे में जानकारी हासिल करना चाहते हैं। Internet में आपको CSO से संबंधित एक या दो लेख ही देखने को मिलेंगे इसीलिए हमने इस लेख के माध्यम से आपको पूरी जानकारी पहुंचाने का प्रयास किया है, तो आइए जानते हैं CSO के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में –

CSO Full Form क्या है?

CSO का Full Form English में “Central Statistics Office” होता है और CSO Full Form In Hindi “केंद्रीय सांख्यिकीय कार्यालय” या “सेंट्रल स्टैटिसटिकल ऑफिस” है। आइये जानते है CSO क्या है? और इसकी गतिविधिया क्या है?

cso full form
CSO Full Form

CSO क्या है?

CSO एक सरकारी कार्यालय है जो कि सांख्यिकीय और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय (Ministry Of Statistics And Programme Implementation) के अंतर्गत आता है। इसका मुख्य उद्देश्य होता है, भारत में सांख्यिकीय गतिविधियों का समन्वय करना। इसके साथ ही भारत में सांख्यिकीय मानकों को विकसित करना और बनाए रखना इसकी जिम्मेदारी होती है। केंद्रीय सांख्यिकीय कार्यालय का Headquarter नई दिल्ली में स्थित है।

जानकारी के लिए बता दे, Central Statistics Office का गठन 2 मई 1951 में भारत सरकार के द्वारा किया गया था। उस दौरान इसका गठन केंद्रीय सांख्यिकी संस्था और केंद्रीय सांख्यिकी संगठन के रूप में किया गया था। आइए जानते हैं इससे संबंधित अन्य जानकारियों के बारे में:-

CSO की गतिविधियां

आइए जानते हैं कि CSO कि क्या मुख्य गतिविधियां है:-

  1. यह विभिन्न उद्योगों के वार्षिक सर्वेक्षण आयोजित करता है।
  2. यह मानव विकास के आंकड़े जारी करता है।
  3. राष्ट्रीय आय के आंकड़ों का संकलन और प्रकाशन करना।
  4. लिंग के आंकड़े
  5. आधिकारिक आंकड़ों को प्रशिक्षण प्रदान करना
  6. पर्यावरण के आंकड़े
  7. राष्ट्रीय औद्योगिक वर्गीकरण
  8. इसके अलावा CSO अपने औद्योगिक सांख्यिकी विंग के जरिए उद्योगों का वार्षिक सर्वेक्षण करता है और उनके परिणामों का प्रकाशन भी करता है।
  9. ऊर्जा के आंकड़े
  10. सांख्यिकी सूचना और प्रसार
  11. भारत के केंद्र शासित प्रदेशों तथा राज्य में सांख्यिकी विकास के संबंधी पंचवर्षीय योजना का कार्य करना।
  12. सांख्यिकीय मामलों में CSO सलाहकार की भूमिका निभाता है।

CSO का संगठन

जिस तरह हर संगठन की संगठनात्मक और प्रशासनिक संरचना होती है। उसी तरह की संरचना CSO की भी है। दरअसल, CSO का नेतृत्व महानिदेशक द्वारा किया जाता है। महानिदेशक ही इस संगठन का प्रमुख होता है। इसमें महानिदेशक के अलावा 5 सहायक निदेशक जनरल होते हैं जो कि राष्ट्रीय लेखा प्रभाग, अर्थ-सांख्यिकी प्रभाग, सामाजिक सांख्यिकी प्रभाग, समन्वय एवं प्रकाशन प्रभाग तथा प्रशिक्षण प्रभाग का कार्य देखते हैं। इसके अलावा इसमें चार उपनिदेशक जनरल को नियुक्त किया जाता है। वहीं इस संगठन में 6 संयुक्त निदेशक, 7 विशेष कार्य अधिकारी को नियुक्त किया जाता है।  आइए CSO के प्रभागो के बारे में जाने:-

  1. राष्ट्रीय लेखा प्रभाग (एन डी):- इस प्रभाग की जिम्मेदारी राष्ट्रीय खातों को तैयार करना होता है। इसके अलावा यह प्रभाग एक वार्षिक प्रकाशन ‘राष्ट्रीय लेखा सांख्यिकी’ भी निकालता है। जिनमें सकल घरेलू उत्पाद निजी पूंजी निर्माण, सरकारी और निजी अंतिम उपभोग व्यय से सम्बंधित आंकड़े होते है। यह प्रभाग निम्नलिखित कार्य करता है:-
  2. यह चालू तथा स्थिर कीमतों पर सकल घरेलू उत्पाद के तिमाही का अनुमान लगाता है।
  3. इसका काम होता है पूंजी स्टॉक तथा निश्चित पूंजी की खपत का पता लगाना
  • सामाजिक सांख्यिकी प्रभाग (एसएसडी:- इस प्रभाग को विकास लक्ष्यों की सांख्यकीय निगरानी, पर्यावरण व आर्थिक लेखा आदि का ध्यान रखना होता है।
  • आर्थिक सांख्यिकी यह प्रभाग (ईएसडी) : इस प्रभाग का काम होता है आर्थिक जनगणना करना।
  • प्रशिक्षण प्रभाग: इस प्रभाग का काम होता है साक्ष्यों पर आधारित नीति निर्माण और योजना बनाना, निगरानी, मूल्यांकन तथा आवश्यक डेटा का संग्रह करना।
  • प्रकाशन प्रभाग : यह प्रभाग CSO के सांख्यिकीय मामलों के साथ उसे राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों की सरकार के साथ समन्वय करता है।

CSO का इतिहास

2 मई 1951 में CSO का गठन “Central Statistical Institute” के रूप में किया गया था। इससे पहले इसका गठन समन्वय और सलाहकार कार्यों को करने के लिए, कैबिनेट सचिवालय के एक भाग के रूप में किया गया था। जब 1954 में CSI का विलय CSO में किया गया तब इसे “Central Statistical Organization” में बदल दिया गया। हाल ही में इसका नाम Statistical Organization से बदलकर “Central Statistical Office” कर दिया गया है।

CSO Full Form (Others)

  • Chief sustainability officer
  • Combat system officer
  • Cincinnati Symphony Orchestra
  • Chief Security Officer
  • Court Security Officer

यह CSO के कुछ प्रचलित Full Form है इसके अलावा भी CSO के कई तरह के Full Form है।

Frequently Asked Questions About CSO

Q.1 केंद्रीय सांख्यिकीय कार्यालय कहां स्थित है?

Answer: केंद्रीय सांख्यिकीय कार्यालय नई दिल्ली संसद मार्ग के सरदार पटेल भवन के पास स्थित है।

Q.2 CSO का औद्योगिक स्कंध कहां है?

Answer: इसका औद्योगिक स्कंध कोलकाता में स्थित है।

Q.3 भारत सरकार के सांख्यिकी मंत्री कौन है?

Answer: भारत सरकार के सांख्यिकी मंत्रालय के अधिकारी का नाम राव इंद्रजीत सिंह है।

Q.4 CSO के कार्य बताएं।

Answer: CSO या Central Statistics Office (CSO Full Form) का प्रमुख कार्य होता है। सांख्यकीय एजेंसियों तथा भारत सरकार को सलाहकार सेवाएं प्रदान करना। यह देश में सांख्यिकी योजना बनाने में, योजना आयोग की मदद करती है। इसके साथ ही यह अंतरराष्ट्रीय सांख्यिकी निकायों के साथ भी सार्वजनिक संबंध बनाए रखती है। इन कार्यों के अलावा CSO राष्ट्रीय खातों का आयोजन और प्रकाशन भी करती है।

ये भी जरूर पढ़े:

निष्कर्ष (Conclusions) :

इस लेख में आपने राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय के बारे में जाना। इस लेख के माध्यम से हमने आपको बताया CSO क्या है? CSO Full Form क्या है? CSO की गतिविधियां? CSO के संगठन तथा CSO का इतिहास और उसके अन्य फुल फॉर्म के बारे में। इसके अलावा हम आपको बता दें कि साल 2019 में सरकार ने राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण कार्यालय का विलय केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय के साथ करने का निर्णय लिया था। उपरोक्त जानकारियों से पता चलता है कि CSO कितना महत्वपूर्ण संगठन है इसीलिए कई परीक्षाओं में इससे संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।

इस लेख के माध्यम से हमने CSO के बारे में पूरी जानकारी देने का प्रयास किया है। उम्मीद है आपने हमारा यह लेख पूरा पढ़ा होगा। अगर आपको हमारे लेख से संबंधित कोई जानकारी हासिल करनी है तो हमें Comment Section में जरूर बताएं। और यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया है तो इस लेख को अन्य सोशल मीडिया Platforms पर शेयर जरूर करें।