Home Full Form GDP क्या है? GDP दर क्या है? GDP की जानकारी हिंदी में

GDP क्या है? GDP दर क्या है? GDP की जानकारी हिंदी में

gdp full form in hindi

दोस्तो आप मे से शायद ही कुछ लोगों को GDP के बारे में पता होगा और कुछ लोगों ने तो शायद इसका नाम भी नही सुना होगा। क्या आपको पता है की GDP Full Form In Hindi क्या है? GDP क्या है? GDP के आंकड़े कहा से जारी किए जाते है? अगर नहीं पता तो इस लेख में मेरे साथ अंत तक बने रहिये। आज हम आपको बताते है कि आखिर ये GDP क्या है।

दोस्तो किसी भी देश की अर्थव्यवस्था को समझने मे GDP का सबसे अहम योगदान होता है। देश की अर्थव्यवस्था को समझने के GDP का उपयोग किया जाता है GDP के द्वारा ही हम देश की वित्तीय स्तर को आसानी से समझने में सक्षम होते है। GDP को किसी भी देश की अर्थव्यवस्था का सही अनुमान लगाने के लिए बनाया गया है। भारत में GDP का अनुमान हर 3 महीने में एक बार किया जाता है।

मै आपको बताना चाहुंगी कि अगर किसी भी देश की वित्तीय स्तर में बहुत अधिक गिरावट होती है तो वहां की वित्तीयस्तर की अर्थव्यवस्था अच्छी नही होती और इस बात की सारी जिम्मेदारी सरकार की होती है। इसे समझने के लिए सरकार GDP का सहारा लेती है। दोस्तो आज के इस Post मे हम आपको GDP से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियो को जैसे की GDP क्या है‌? GDP Full Form क्या है, इसके क्या फायदे है आदि इन सारी बातों के बारे मे जानकारी प्रदान करेगे। तो चलिए शुरू करते है। –

GDP Full Form In Hindi

GDP Full Form अंग्रेजी मे “Gross Domestic Product” होता है। और GDP Full Form In Hindi, इसे “सकल घरेलू उत्पाद” कहते है। GDP क्या है और यह क्यों जरूरी है आइये जानते है।

gdp full form in hindi
GDP Full Form

GDP क्या होता है?

दोस्तो किसी भी देश की आर्थिक व्यवस्था यानी विश्व स्तर की गणना मे GDP इस्तेमाल किया जाता है। देश के उत्पादन में जो भी आय का मूल्य होता है वह GDP कहलाती है। GDP के द्वारा किसी भी राष्ट्र की सीमा रेखा के अंदर सभी सेवाओं और बाजारों का मूल्य होता है। GDP को मापने के लिए और मात्रा निर्धारण करने के लिए सबसे आसान तरीका है खर्च या व्यय विधि के द्वारा है। GDP शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग अर्थशास्त्री साइमन के द्वारा अमेरिका में 1935 से 44 के बीच किया गया था। GDP को 3 तरह से समझ सकते है।

1. प्रथम – GDP से देश के माल और सेवाओं का बाजार मूल्य है जिसका निश्चित समय अवधि में उत्पादित माल वस्तुओं और सेवाओं के मूल्य के बराबर है।

2. द्वितीय – GDP (GDP Full Form in Hindi “सकल घरेलू उत्पाद”) द्वारा उत्पादन की प्रत्येक अवस्था पर कुल वर्जित मूल्य और छूट रहित के बराबर होती है।

3. तृतीय – यह देश में उत्पादन के द्वारा उत्पन्न हाय के योग के बराबर है या कर्मचारियों के छतिपूर्ति राहतगढ़ में मिलने वाली छूट को भी व्यवस्थित करता है।

GDP दर कैसे निकालते है?

GDP निकालने का सबसे सरल तरीका

  • GDP = Consumption(उपभोग)+कुल निवेश
  • GDP = उपभोग+सकल+निवेश +सरकारी खर्च (निर्यात- आयात)
  • GDP = Consumption + Gross Investment+ Expenditure + Export – Import

GDP कितने घटको पर आधारित होता है

दोस्तो GDP मुख्यतः तीन घटको यानी की Component पर आधारित होती है।

1. कृषि (Agriculture)
2. उद्योग (Industries)
3. सेवा (Services)

GDP को इसमें आए के अनुसार निकालते हैं यानी जितना आए बढ़ेगा या घटेगा उसी के अवसर पर GDP तय की जाती है। इससे यह पता चलता है कि देश कितना विकास कर रहा है जितना GDP बढ़ेगा उतना ही देश की आर्थिक स्तर में बढ़ोतरी होगी GDP दर गिरने के कारण ही रोजगार और व्यवसाय में कमी और बाजार में महंगाई देखने को मिलती है।

GDP का अंतर्राष्ट्रीय मानक कैसे माने

दोस्तो सकल घरेलू उत्पाद (GDP Full Form in Hindi) यानी की GDP को मानक के रूप मे एक अंतरराष्ट्रीय किताब “System Of National Accounts” 1993″ मे दर्शाया गया है। इस किताब को 1968 मे प्रकाशित किया गया था। इसे SNA 68 या SNA 93 भी कहते है। अमेरिका के प्रयोग के बाद से ही इसे IMF अंतर्राष्ट्रीय मानक बनाया है। IMF को International Monetary Fund आर्थिक विकास संगठन संयुक्त राष्ट्र संघ अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक के प्रतिनिधियों के द्वारा बनाया गया है।

GDP के आंकड़े कहा से जारी किए जाते है

दोस्तो इसके आंकड़ों को CSO यानी एक सरकारी संस्था द्वारा जारी किया जाता है। CSO भारत में सांख्यिकी गतिविधियों में समानता और सांख्यिकी मानकों के विकास दर के लिए कार्यरत है। इसका कार्यालय दिल्ली के सरदार पटेल संसद मार्ग में स्थित है इसके कार्यालय का प्रमुख महानिदेशक होता है। इनके अंतर्गत राष्ट्रीय लेखा विभाग, सामाजिक सांस्कृतिक विभाग, प्रशिक्षण विभाग एवं समन्वय और प्रकाशन विभाग आते हैं। GDP के द्वारा हर एक देश के वित्तीय अर्थव्यवस्था और सेवाओं के आंकड़े जुटाता है‌। इसमे मानक सूचकांक भी सम्मिलित किए जाते हैं। इसको साधारण भाषा में CSO एक भारतीय अर्थव्यवस्था प्रक्रिया का आधार है जो विदेशी की GDP के साथ भारतीय GDP की तुलना में एक प्रमाण प्रदर्शित करता है।

CSO क्या है?

दोस्तो CSO का पूरा नाम “केंद्रीय सांख्यिकी संगठन” है। यह संगणक केंद्र CSO के अंतर्गत आता है। यह दिल्ली के RK Puram में स्थित है। इसे अंग्रेजी में “Central Statistics Office Of India” कहते है। यह एक Graphical Unit इकाई है।

मार्च 2020 मे GDP कितना था?

दोस्तो जैसा कि हम सभी जानते है कि बीते साल 2020 कोरोना के कारण पूरी दुनिया भर की व्यवस्था एवं बाजारो में मंदी का दौर आ गया है। जिससे कि हमारे अर्थव्यवस्था में भी काफी गिरावट आ गई है‌। अगर भारत की GDP की बात करे तो भारत की GDP 1.9% है। जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया है कि इसे हर 3 महीने में गणना की जाती है। एक News Agency के मुताबिक इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है और अगर 3 महीने में GDP इस से भी नीचे गिर जाती है तो वह गिरावट 41 साल के सारे Record को तोड़ सकती है क्योंकि GDP पर ही हमारे देश की अर्थव्यवस्था निर्भर करती है। और इसके द्वारा ही हम यह अनुमान लगा सकते हैं कि हमारा देश कितना विकास कर रहा है।

ये भी जरूर पढ़े:

निष्कर्ष (Conclusion):

दोस्तों आज की Post में हमने आपको जानकारी दी GDP और GDP Full Form In Hindi क्या है। इस लेख को पढ़न के बाद हम GDP के Concept को समझ गए है और ये भी जान गए है की GDP की आवश्यकता क्यों होती है। हम आशा करते हैं आपको हमारा या Post पसंद आया होगा। और आपको GDP से जुड़े सारे सवालों के जवाब भी मिल गए होगे। आपको हमारा ये Post कैसा लगा हमे जरुर बताएं। साथ ही अगर आपके पास इस विषय से जुड़ी कोई सवाल या जिज्ञासा है तो आप वो भी हमें बता सकते है।