IMF Full Form IMF क्या है? जानिये हिंदी में

0
229
imf full form

अक्सर आप और हम टीवी, समाचार पत्र, रेडियो में IMF के बारे में सुनते रहते हैं। हालांकि बहुत सारे लोग इससे वाकिफ नहीं है कि IMF क्या है? IMF Full Form क्या है? कुछ लोगों का कहना है कि यह विश्व बैंक की तरह एक तरह का बैंक है, तो कुछ का कहना है कि यह एक ऐसी संस्था है जिसका उद्देश्य विभिन्न देशों को सब्सिडी प्रदान करना है। हालांकि IMF इनमें स कोई भी नहीं है। यह एक तरह का अंतरराष्ट्रीय संगठन है जिसका मूल उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय व्यापार में विकास करना, गरीबी को दूर करना है। इस आर्टिकल में हम IMF के बारे में बताएंगे। तो आइए जानते हैं IMF के बारे में समस्त जानकारी हिंदी में।

IMF Full Form क्या है?

IMF Full Form “International Monetary Fund” होता है। वहीं IMF Full Form In Hindi “अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष” होता है।

IMF क्या है?

IMF Full Form के बाद, अब सवाल आता है कि आखिर IMF क्या है? दरअसल, लोगों के बीच IMF को लेकर कई तरह के भ्रम मौजूद है। कुछ लोग इसे अर्थशास्त्रियों व विशेषज्ञों का एक छोटा समूह मानते हैं, तो कुछ लोगों का कहना है कि यह विश्व बैंक का सदस्य है। कुछ लोगों का यह भी मानना है कि IMF गरीब देशों को आर्थिक विकास के लिए सब्सिडी देता है। हालांकि IMF ना तो एक केंद्रीय बैंक न ही कोई एजेंसी।

IMF एक तरह का अंतरराष्ट्रीय संगठन है जो कि 181 देशों से मिलकर बना है। इस संगठन का उद्देश्य होता है मौद्रिक सहयोग बढ़ाना, वित्तीय स्थिरता लाना तथा अंतरराष्ट्रीय व्यापार में मदद करना जिससे कि अधिक रोजगार और आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित किया जा सके। लेकिन इसका मुख्य उद्देश्य होता है विश्व भर में गरीबी को कम करना।

IMF कई तरह से अपने सदस्य देशों की आर्थिक और तकनीकी रूप से मदद करता है। इस बोर्ड में प्रत्येक देश के वित्तीय महत्व के आधार पर कार्यकारी बोर्ड का प्रतिनिधित्व किया जाता है। यानी कि जो देश वैश्विक अर्थव्यवस्था में ज्यादा शक्तिशाली होगा, उसी के पास इसका ज्यादा मताधिकार होगा।

IMF क्या कार्य करता है?

  • रोजगार और आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करना :- IMF का मुख्य कार्य है विश्व भर में रोजगार और आर्थिक वृद्धि को बढ़ाना जिससे कि कोई भी देश पिछड़ा या गरीब ना रहे।
  • आर्थिक मदद प्रदान करना :- वह देश जो कि आर्थिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, उन देशों को वित्तीय रूप से मदद करना और उनके आर्थिक विकास के लिए उन्हें ऋण प्रदान करना।
  • अंतरराष्ट्रीय व्यापार के विकास में मदद :- अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष विश्व स्तर पर किसी भी उद्योग के विकास में मदद करता है।
  • गरीबी में कमी लाना:- यह वैश्विक स्तर पर गरीबी को कम करने में मदद करता है।
  • निगरानी करना:- IMF का मुख्य उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय मुद्रा प्रणाली में स्थिरता को बनाए रखना है। ऐसा करने के लिए यह विभिन्न देशों की आर्थिक नीतियों से संबंधित कार्यों की समीक्षा करता है। यह आर्थिक और वित्तीय संकट आने पर उनके प्रति संवेदनशीलता व्यक्त करता है। इसके साथ ही उन्हें कम करने और वापस अर्थव्यवस्था को पटरी पर लौटाने वाली नीतियों को प्रोत्साहित करने वाले उपायों के बारे में बताता है।

IMF के उद्देश्य

  • IMF का पहला उद्देश्य है वैश्विक मौद्रिक सहयोग करना।
  • विश्व भर में वित्तीय स्थिरता सुनिश्चित करना।
  • विश्व में गरीबी को दूर करना।
  • अंतरराष्ट्रीय रूप से प्रत्येक व्यापार और आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करना।

IMF की स्थापना

साल 1930 के दशक में वैश्विक अर्थव्यवस्था पूरी तरह से बर्बाद हो गई थी। इस महामंदी के आने से IMF जैसे संगठन की जरूरत महसूस होने लगी। IMF की स्थापना जुलाई महीने में साल 1994 में हुई। दरअसल, संयुक्त राज्य अमेरिका के न्यू हेंपशायर में ‘ब्रेटन वुड्स सम्मेलन’ आयोजित किया गया था। इस सम्मेलन में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक की स्थापना की बात रखी गई। इस सम्मेलन में 44 देश सम्मिलित थे और उन्होंने एक आर्थिक सहयोग के लिए एक फ्रेमवर्क का निर्माण करने की बात रखी। सम्मेलन के बाद 27 सितंबर 1948 को यह प्रभावी हुआ और IMF प्रकाश में आया। IMF में हर देश के सदस्यों को शामिल किया जाता है।

IMF का मुख्यालय संयुक्त राज्य अमेरिका के Washington DC में है।

भारत में IMF की भूमिका

IMF ने भारत में कई तरह से सहयोग किया है। इसने भारतीय अंतरराष्ट्रीय व्यापार को बढ़ाने में काफी मदद की है। इसके साथ ही भारत में कई संकटपूर्ण स्थितियों में भी IMF ने भारत को मदद पहुंचाई है। स्वतंत्रता और विभाजन के बाद भारत में आर्थिक संकट उभर आया था। हालांकि इस आर्थिक संकट से उभरने में IMF ने भारत की मदद की। वही 1965 और 1971 में भारत-पाकिस्तान का संघर्ष हुआ जिससे वित्तीय कठिनाई पैदा हुई। इसमें भी IMF ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की आलोचनाएं

जिस तरह हर सिक्के के 2 पहलू होते हैं, उसी तरह अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की एक जगह तारीफ़ तो दूसरी जगह आलोचना भी की जाती है। कई बार इसकी कार्यवाहियों को लेकर आलोचना की जाती रही है। बहुत सारे अर्थशास्त्री यह कहते हैं कि यह संगठन अपने उद्देश्य में विफल रहा है। आइए जानते हैं किन आधार पर अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की आलोचनाएं होती है।

  • भेदभाव:- कई बार अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के बारे में कहा जाता है कि इसकी नीतियां भेदभावपूर्ण है। दरअसल, ये विकसित देशों को अल्पविकसित देशों के मुकाबले ज्यादा तवज्जो देता है। इसके साथ ही विकसित देशों द्वारा किए गए गलत कार्यों पर भी यह ध्यान नहीं देता। उदाहरण के रूप में, साल 1948 में फ्रांस ने बिना किसी आज्ञा के अपनी मुद्रा का पुनर्मूल्यांकन किया जो कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के नियमों और धाराओं का उल्लंघन था। हालांकि IMF ने इसका विरोध नहीं किया।
  • दीर्घकालिक ऋण उपलब्ध ना कराना:- जैसा कि आप जानते हैं अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष विभिन्न देशों को विकसित करने का उद्देश्य लिए हुए हैं। हालांकि, विभिन्न देशों को विकसित करने के लिए उन्हें दीर्घकालिक ऋण देने की जरूरत होती है। लेकिन अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष उन्हें अल्पकालिक सहायता ही प्रदान करता है।
  • कई देशों ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष पर यह आरोप लगाए हैं कि यह विभिन्न देशों की विदेशी मुद्रा से जुड़ी आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं करता।

ये भी जरूर पढ़े:

CSO Full Form || FDI Full Form || NABARD Full Form

ऊपर बताई गई कमियों को देखकर कहा जा सकता है कि भले ही अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष अपने अच्छे उद्देश्यों के लेकर शुरू किया गया था। हालांकि अभी इसमें कुछ कमियां मौजूद है। लेकिन इन कमियों के आधार पर हम यह पूरी तरह से नहीं कह सकते कि यह संस्था पूरी तरह से गलत है क्योंकि संस्था ने समय-समय पर कई महत्वपूर्ण योगदान दिया है तथा कई विकासशील देशों की ऊर्जा समस्या, मंदी जैसी कई समस्याओं का समाधान भी किया है।

निष्कर्ष (Conclusions)

इस आर्टिकल के जरिए हमने आपको IMF Full Form, IMF क्या होता है? IMF का भारत में क्या योगदान है? IMF के क्या फायदे हैं?, से संबंधित जानकारी देने का पूरा प्रयास किया है। हमें उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई होगी। अगर यह जानकारी आपको उपयोगी लगी है, तो इसे अपने मित्रों के साथ Social Media पर शेयर करना ना भूले। अगर आपके मन में कोई अन्य सवाल है तो हमें Comment Section में बताएं। हम आपको जवाब देने का हर संभव प्रयास करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here