CPWD क्या है? CPWD की पूरी जानकारी हिंदी में

0
108
cpwd full form in hindi

दोस्तों, क्या आपको पता है कि भारत के प्रमुख प्रतिष्ठान, संस्थानों का निर्माण करने की जिम्मेदारी किसकी है? आखिर किसके ज़रिए भारतीय संसद, राष्ट्रपति भवन, सुप्रीम कोर्ट जैसे प्रतिष्ठित भवनों का निर्माण किया गया है? आपको जानकारी के लिए बता दें, कि इन सब का निर्माण CPWD के कार्य क्षेत्र में आता है। क्या आपको पता है की CPWD Full Form In Hindi क्या है, CPWD क्या है? और CPWD की क्या-क्या जिम्मेदारियां है?

CPWD केंद्र सरकार का एक ऐसा विभाग है जो कि जल प्रणाली, पुलों, सड़कों, सरकारी आवासों जैसे कई इमारतों का निर्माण करता है। ऐसे में इस महत्वपूर्ण विभाग के बारे में जानना जरूरी होता है। कई परीक्षाओं में भी केंद्रीय लोक निर्माण विभाग के बारे में पूछा जाता है इसीलिए इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इससे जुड़ी जानकारी देंगे। आइए जानते हैं किCPWD क्या है?, CPWD के कार्य क्या है?, CPWD की जिम्मेदारी तथा CPWD का इतिहास क्या है?

CPWD Full Form In Hindi

CPWD Full Form In English “Central Public Works Department” है, वहीं CPWD Full Form In Hindi “केंद्रीय लोक निर्माण विभाग” या ” सेंट्रल पब्लिक वर्क्स डिपार्टमेंट” है।

CPWD क्या है? What is CPWD?

हमने जाना CPWD का फुल फॉर्म क्या होता है? अब हम जानेंगे कि CPWD क्या होता है? दरअसल, यह एक सरकारी विभाग है जो कि केंद्र सरकार के अंतर्गत आने वाले शहरी विकास मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करता है। इसका काम होता है केंद्र सरकार के अलग-अलग विभागों और सार्वजनिक उपक्रमों, जल प्रणालियों, पुलों, सड़कों तथा स्वायत्तशासी निकायों की इमारतों का निर्माण और रखरखाव करना। आसान शब्दों में कहें तो यह देश के सार्वजनिक क्षेत्र में निर्माण कार्य करता है।

CPWD के द्वारा ही अब तक राष्ट्रपति भवन, संसद भवन, सुप्रीम कोर्ट जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों को बनाया गया है। वर्तमान में भी पूरे देश में CPWD ने IIT और IIM जैसे कुछ प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थानों का निर्माण किया है।

CPWD में कई अलग-अलग पदों को नियुक्त किया जाता है जिनकी जिम्मेदारी अलग-अलग होती है। CPWD में Regions और Sub-Regions का नेतृत्व महानिदेशक और अतिरिक्त निदेशक करते हैं। इसके अलावा सभी राज्य और राजधानियों के विभिन्न क्षेत्रों का नेतृत्व चीफ इंजीनियर (Chief Engineers) के जिम्मे होता है। वर्तमान में CPWD में एक नया पद सृजित किया गया है। इस पद का नाम है Chief Project Manager (CPM) है। CPM का पद Chief Engineers  के पद के समकक्ष होता है।

CPWD के निष्पादन क्षेत्र में 3 विंग शामिल होते हैं जो कि निम्नलिखित हैं:-

  • बी एंड आर (भवन और सड़कें)
  • ई एंड एम (इलेक्ट्रिकल और मैकेनिकल)
  • बागवानी

CPWD का इतिहास (History Of CPWD)

जुलाई 1854, में केंद्रीय लोक निर्माण विभाग अस्तित्व में आया था इसका निर्माण लॉर्ड डलहौजी ने सार्वजनिक कार्यों के निष्पादन के लिए किया था। CPWD या केंद्रीय लोक निर्माण विभाग पिछले 164 वर्षों से देश की सेवा कर रहा है। इसने भवन निर्माण, वास्तुकला, इंजीनियरिंग परियोजना जैसे कई विषयों पर विशेषज्ञता हासिल की है। CPWD की अध्यक्षता डीजी (DG) करते हैं जो कि भारत सरकार के प्रधान तकनीकी और सलाहकार भी होते हैं।

CPWD की जिम्मेदारियां Responsibilities Of CPWD?

  1. CPWD की यह जिम्मेदारी है कि यदि किसी भी सरकारी इमारत जैसे कि स्कूल, राजमार्ग, अस्पताल आदि को कोई नुकसान पहुंचता है तो इसका निर्माण कार्य करे।
  2. इसके साथ ही ‘सेंट्रल पब्लिक वर्क्स डिपार्टमेंट’ (CPWD Full Form In Hindi) की जिम्मेदारी है कि वह शहर में स्वच्छ पेयजल, टूटी हुई पानी की पाइप लाइनों को ठीक करें।
  3. CPWD की जिम्मेदारी है कि वह सभी सरकारी सार्वजनिक परियोजनाओं का डिजाइन व निर्माण करें, सड़कों और राजमार्गों की सुरक्षा का ध्यान रखें। राजमार्गों का निर्माण करें और सरकारी भवनों के रखरखाव पर ध्यान दें।
  4. सरकारी भवनों का निर्माण और रखरखाव करना।
  5. पेयजल की व्यवस्था करना।
  6. पुल का निर्माण और रखरखाव करना।
  7. बिजली और पानी की आपूर्ति करना
  8. सड़कों, राजमार्ग और फ्लाई ओवरों में सुरक्षा का प्रबंधन करना।
  9. केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए आवासों का निर्माण और रखरखाव।
  10. केंद्रीय सचिवालय यानी कि SSB और SIB आदि के लिए प्रतिष्ठानों का निर्माण कार्य करना।
  11. विदेश मंत्रालयों के अनुरोध पर विदेश के दूतावासों तथा अन्य भवन परियोजनाओं का निर्माण करना।
  12. केंद्रीय पुलिस संगठनों जैसे CRPF, CISF,BSF की संपत्ति का रखरखाव।

CPWD के द्वारा किए गए कार्य

  1. Central Public Works Department (CPWD) के प्रमुख (Head) प्रधान तकनीकी सलाहकार के रूप में नियुक्त किए जाते हैं।
  2. एमएचआरडी (MHRD) के तहत आने वाले स्वायत्त संस्थान और जैसे कि IIT, NIT, IIM आदि में से अधिकतर संस्थानों का निर्माण CPWD के द्वारा ही किया गया है।
  3. दिल्ली पीडब्ल्यूडी (PWD) भी CPWD के अंतर्गत ही आता है। दिल्ली पीडब्ल्यूडी के जितने भी अधिकारी है वह मूल रूप से CPWD से संबंधित है। इस तरह से जितने भी फ्लाईओवर, प्रमुख सड़कों, अस्पतालों का निर्माण CPWD के द्वारा ही किया गया है।
  4. विदेश संबंधों को ध्यान में रखते हुए CPWD ने देश के बाहर भी काम किए हैं। कपव्ड4 के द्वारा भूटान की सड़कों का निर्माण किया गया है। साथ ही अफगान की संसद भी बनाई गई है।
  5. Central Public Works Department (CPWD) ने सीमाओं में भी काम किया है। इन्होंने बांग्लादेश सीमा, भारत-चीन सीमा, पाकिस्तान सीमा में सड़कों का निर्माण किया है।
  6. पहले उत्तर-पूर्वी राज्यों के पास खुद के PWD नहीं थे तब उस दौरान इन राज्यों के प्रमुख कार्यों को CPWD के द्वारा ही दिया गया था।
  7. CPWD संपत्ति और किराए के मूल्यांकन के लिए टैक्स डिपार्टमेंट की मदद करता है। इसके साथ ही जो CPWD Officers आयकर में तैनात है वे साइट पर जाकर संपत्तियों का मूल्यांकन करते हैं।
  8. CPWD, 1982 में एशियाई खेलों तथा 2010 में, कॉमन वेल्थ खेलों के लिए स्टेडियम और अन्य बुनियादी ढांचे के निर्माण कार्यों में शामिल था।

Frequently Asked Questions About CPWD

Q. सीपीडब्ल्यूडी CPWD Full Form In Hindi क्या है?

Ans. सेंट्रल पब्लिक वर्क्स डिपार्टमेंट (Central Public Works Department)

Q. CPWD का गठन कब हुआ?

Ans. जुलाई 1854

Q. CPWD का मुख्यालय कहां है?

Ans. नई दिल्ली

Q. CPWD की स्थापना किसने की?

Ans. जेम्स ब्रून- रामसे और डलहौजी

Q. CPWD के वर्तमान डायरेक्टर जनरल कौन है?

Ans. श्री विनीत कुमार जायसवाल (Shri Vinit Kumar Jayaswal)

ये भी जरूर पढ़े:

निष्कर्ष (Conclusions)

इस पोस्ट में हमने जाना कि CPWD क्या है? CPWD Full Form In Hindi क्या है? कैसे काम करता है तथा इसने अब तक कौन-कौन से कार्य किए हैं। इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप यह तो समझ गए होंगे कि यह एक सरकारी निकाय है जिसका काम होता है सार्वजनिक निर्माण, जल प्रणाली, सड़क, पुल का निर्माण और रखरखाव करना। सीपीडब्ल्यूडी (CPWD) के कार्यों का ही परिणाम है कि आज हमारे पास भारतीय संसद, सुप्रीम कोर्ट जैसे भव्य भवन है। CPWD सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी कार्य करता है। इसने हाल ही में भूटान में सड़कों का निर्माण तथा अफगानिस्तान में संसद के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।