TLD Full Form TLD क्यों जरूरी है जानिये हिंदी में

0
63
tld full form

कई लोग अपनी Website चलाना चाहते हैं जिसके लिए Domain खरीदना जरूरी होता है। यही वजह है कि ज्यादातर लोग Domain खरीदते हैं। लेकिन अब सवाल उठता है कि आखिर कौन-सा Domain बेहतर है? दरअसल, ज्यादातर लोग TLD Domain को ज्यादा तवज्जो देते हैं। क्या आपको पता है की TLD क्या है और TLD Full Form क्या है? अगर आप नहीं जानते कि TLD Domain क्या है? तो हम आपको बता दें, TLD उच्च स्तरीय Domain माना जाता है। इस तरह के Domain में Google AdSense का Approve लेना काफी आसान होता है। आइए इस लेख के जरिए जानते हैं कि TLD Full Form क्या होता है? TLD क्या होता है? तथा TLD के कितने प्रकार होते हैं?

TLD Full Form क्या है?

TLD Full Form “Top-level Domain” होता है। Hindi में इसे हम “उच्च स्तर का डोमेन” कहेंगे। आइये अब जानते है की TLD क्यों जरूरी है और Digital Marketing में TLD क्या महत्व रखता है।

TLD क्या होता है?

Internet और Website की दुनिया में डोमेन का काफी ज्यादा महत्व होता है। TLD, किसी भी Website के Domain Name का अंतिम Segment होता है। आपने देखा होगा किसी भी Internet Address के अंतिम बिंदु के बाद एक Letter होता है जिससे हमें पता चलता है कि उस Website का Domain Name क्या है। वही बात आती है Top Level Domain (TLD Full Form) की तो यह Domain प्रणाली के सबसे उच्च स्तर के Domain को कहा जाता है। यह किसी भी Internet Address के अंत में लगाई जाती है। उदाहरण के तौर पर ‘.com, .edu आदि।

इसके अलावा Internet Address को निर्धारित करने का काम ICANN i.e. Internet Corporation for Assigned Names and Numbers द्वारा किया जाता है जो एक तरह का प्राधिकरण है। इसी का काम होता है उच्चतम Domain के प्रशासन को अलग-अलग संस्थाओं को सौंपना।

किसी भी Website को बनाने के लिए डोमेन काफी ज्यादा महत्वपूर्ण होता है और अगर Domain Top Level का हो तो इस पर लोगों की विश्वसनीयता भी बढ़ जाती है। Top Level Domain (TLD Full Form) भी कई प्रकार के होते हैं। आइए नीचे जानते हैं Domain के कौन-कौन से प्रकार होते हैं।

TLD के क्या उद्देश्य है?

TLD के पीछे का उद्देश्य यह होता है कि अलग-अलग TLD होने से Domain के नाम से Website के बारे में जानकारियां हासिल होती है। उदाहरण के तौर पर यदि किसी Website का नाम Website .com है तो इस वेबसाइट के नाम से आम लोगों यह पता चल जाता है कि यह एक लाभकारी वाणिज्यिक उद्यम वेबसाइट है। वहीं यदि किसी वेबसाइट का नाम WordPress .org है तो इससे पता चलता है कि यह गैर लाभकारी संगठन का कोई वेबसाइट है।

TLD के प्रबंधन के लिए कौन उत्तरदायी है?

TLD के प्रबंधन की जिम्मेदारी ICANN की है। ICANN का पूरा नाम Internet Corporation for Assigned Names and Numbers है। यह एक गैर लाभकारी संगठन है। जो कि TLD के प्रबंधन का जिम्मेदार होता है।

TLD के कितने प्रकार हैं।

ऊपर हमने जाना है कि किसी भी Domain नाम के अंतिम Segment या कहें कि डॉट (.) के बाद आने वाले हिस्से को Domain कहा जाता है। Domain भी कई प्रकार के होते। आइए जानते हैं इसके प्रमुख प्रकारों के बारे में:-

gTLD (Generic Top-level Domain) : इस तरह के Domain को साधारण Domain के नाम से जाना जाता है। उदाहरण के रूप में .com, .org, .net इसी तरह के डोमेन है। इसमें org डोमेन किसी Organization के बारे में बताता है। इसके अलावा भी कई तरह के Domain होते हैं जैसे कि .xyz, .biz, .Info आदि। आइए जानते हैं इस तरह के Domain किन-किन कार्यों के लिए जाते हैं।

  1. .com – इस Domain का इस्तेमाल Professional Use के लिए किया जाता है।
  2. .edu – इस Domain का इस्तेमाल शैक्षणिक उपयोग के लिए किया जाता है। ज्यादातर यूनिवर्सिटी कॉलेज और स्कूलों की Website में इसका इस्तेमाल होता है।
  3. .net – इसका इस्तेमाल नेटवर्क के उपयोग के लिए किया जाता है।
  4. .org – इस तरह के डोमेन का इस्तेमाल ज्यादातर संगठनों (Organization) द्वारा किया जाता है।
  5. .int – इस डोमेन का इस्तेमाल अंतरराष्ट्रीय संगठनों के लिए किया जाता है।
  6. .gov- इसका इस्तेमाल Government Agencies के लिए किया जाता है।

sTLD (Sponsored Top-level Domain) : इस Domain को किसी Business या सरकारी या किसी ग्रुप के माध्यम से Sponsored किया जाता है। वह सभी इस तरह के Domain में शामिल होते हैं। आइए उदाहरण के माध्यम से जानते हैं।

  1. .gov – इस तरह के डोमेन का इस्तेमाल सरकारी Websites के लिए किया जाता है।
  2. .edu – इस तरह के Domain यह दर्शाते हैं कि यह किसी Educational Institutes या शिक्षा विभाग के अंतर्गत बनाए गए हैं।
  3. .mil – इस तरह के डोमेन का इस्तेमाल मिलिट्री के लिए किया जाता है।

ccTLD (Country Code Top-level Domain) : इस तरह के Domain में किसी भी देश के Code को प्रस्तुत किया जाता है। आइए इस उदाहरण के द्वारा समझते हैं:-

  1. .in – India
  2. .uk – United kingdom
  3. .vn – Vietnam
  4. .de – Germany
  5. .ca – Canada
  6. .nl – Netherlands
  7. .us- USA
  8. .ch – Switzerland
  9. .jp -Japan
  10. .cn China
  11. .br- Brazil
  12. .id – Indonesia
  13. .es – Spain
  14. .eu – European Union
  15. .ru – Russia

यह Domain अपने देश के Country Code के साथ चलते हैं। उदाहरण के तौर पर:-

  • Amazon.in
  • Amazon.com
  • Amazon.co.uk
  • Amazon.de
  • Reserved TLDs : इस तरह के TLD आरक्षित होते हैं यानी कि इनका स्थाई रूप से इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। उदाहरण के तौर पर .localhost स्थानीय कम्प्यूटर के लिए आरक्षित होता है।

TLD का SEO से क्या सम्बंध है?

Top Level Domain (TLD Full Form) किसी भी Website की पहचान का महत्वपूर्ण अंग होता है। हालांकि TLD का कोई प्रभाव SEO पर नहीं पड़ता क्योंकि गूगल सिर्फ को best Content को ढूंढने का प्रयास करता है, ना की किसी की TLD को। हालांकि हम यह कह सकते हैं कि जिस TLD का चयन हम करते हैं, वह आपके SEO को अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित कर सकता है।

How To Become A Content Writer- Complete Guidance

उदाहरण के लिए अगर आप किसी ऐसे TLD का चयन करते हैं जो कि अज्ञात या अजीब हो तो आपके Site के Visitors के लिए आपके Site को याद रखना कठिन होगा।  और इस तरह आपके साइट की Ranking घट जाएगी।

निष्कर्ष (Conclusions)

इस लेख के जरिए हमने आपको TLD Full Form? TLD क्या होता है? TLD के प्रकार, से संबंधित जानकारी देने का पूरा प्रयास किया है। हमें उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई होगी। अगर यह जानकारी आपको उपयोगी लगी है, तो इसे अपने मित्रों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले। अगर आपके मन में कोई अन्य सवाल है तो हमें Comment Section में बताएं। हम आपको जवाब देने का हर संभव प्रयास करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here