PR क्या है? PR Full Form, PR की पूरी जानकारी हिंदी में

0
60
pr full form

जैसे-जैसे समय बदल रहा है वैसे-वैसे जनसंपर्क की आवश्यकता काफी ज्यादा बढ़ गई है। जनसंपर्क के जरिए जनता से संपर्क स्थापित किया जाता है। आप तो जानते ही हैं वर्तमान में प्रत्येक कंपनी, संगठन, तथा राजनीति में भी जनसंपर्क का कितना इस्तेमाल किया जा रहा है। आज भारत में चुनाव के दौरान जनसंपर्क अहमियत और भी बढ़ जाती है क्योंकि यह किसी भी राजनेता की छवि निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। क्या आपको पता है की PR Full Form क्या है और इसके क्या फायदे होते है?

जनसंपर्क अगर प्रभावी हो तो आप चुनाव तक जीत सकते हैं, ऐसे में जनसंपर्क काफी ज्यादा महत्वपूर्ण बन गया है। इस लेख में हम आपको PR के बारे में बताएंगे। इसमें हम आपको बताएंगे कि PR क्या होता है? PR Full Form क्या होता है? PR के क्या फायदे हैं? तथा PR के मुख्य कार्यों के बारे में। चलिए शुरू करते हैं:-

PR Full Form क्या है?

PR Full Form “Public Relations” होता है और PR को हिंदी में “जनसंपर्क” कहा जाता है। आज के समय में PR यानी की “Public Relations” का बहुत महत्व है। अगर आप PR के बारे में और अधिक जानकारी चाहते है तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े।

PR क्या होता है?

जनसंपर्क क्या है? यह समझने के लिए इसके नाम पर गौर करना होगा। जनसंपर्क दो शब्दों के मेल से बना है ‘जन’ और ‘संपर्क’। जन से तात्पर्य जनता से हैं यानी कि जनसंपर्क का अर्थ हुआ जनता से संपर्क स्थापित करना। जनसंपर्क एक साधन की तरह काम करते हुए आपसी संपर्क को मजबूत बनाता है। जैसा कि आप जानते हैं विकास के लिए जन भागीदारी जरूरी होती है, इस जन भागीदारी को सुनिश्चित करने का काम जनसंपर्क करता है।

pr full form public relations
PR Full Form

वर्तमान समय में व्यापारिक, सामाजिक तथा सभी प्रकार की संस्थाओं के लिए जनसंपर्क यानी की “Public Relations” (PR Full Form) महत्वपूर्ण हो चुका है क्योंकि किसी भी संस्था को अपनी साख लोगों के सामने मजबूत करने के लिए जनसंपर्क की आवश्यकता होती है। जनसंपर्क जनमत निर्माण करता है जो अपनी रणनीति के तहत लोगों का पक्ष अपनी ओर मोड़ता है, जनसंपर्क सिर्फ अब संस्थाओं के लिए ही महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि यह लोकतंत्र के लिए भी एक रामबाण की तरह कार्य कर रहा है। लोकतंत्र में जनता की भागीदारी महत्वपूर्ण होती है और यह भागीदारी जनता के द्वारा ही हो पाती है।

जनसंपर्क को समझने के लिए निम्नलिखित बिंदुओं पर गौर करें:-

  • जनसंपर्क के जरिए जनता की समस्याओं और भावनाओं को समझा जाता है।
  • सरकारी नीतियों का जनता पर क्या प्रभाव पड़ता है? उसके क्या लाभ और हानियां है। यह सब जन संपर्क के जरिए जाना जाता है।
  • जनसंपर्क के जरिए यह भी जानने में मदद मिलती है कि सरकारी और गैर सरकारी संगठनों से सरकार क्या अपेक्षाएं रखते हैं।

PR के क्या फायदे है?

जनसंपर्क किसी भी संस्था की छवि निर्माण में मदद करता है। इसके साथ ही जनसंपर्क यानी की “Public Relations” (PR Full Form) के कई फायदे होते हैं। आइए जानते हैं इसके फायदों के बारे में:-

  • विश्वसनीयता : जनसंपर्क में कुछ ऐसी रणनीति बनाई जाती है जिसके अंतर्गत किसी संस्था या व्यक्ति के प्रति Credibility जागृत की जाती है।
  • पहुंच : जनसंपर्क में अगर कोई अच्छी रणनीति बनाई जाती है तो इससे कई समाचार Outlet जनसंपर्क की खबरें देते हैं जिससे जनसंपर्क के जरिए बड़े दर्शक वर्ग तक Reach सुनिश्चित की जाती है।
  • छवि निर्माण: किसी भी संस्था के लिए छवि निर्माण महत्वपूर्ण होती है। जनसंपर्क के जरिए किसी भी संस्था की जनता के बीच सकारात्मक छवि निर्मित की जाती है तथा इस छवि को लंबे समय तक बरकरार रखने की कोशिश की जाती है। अगर किसी भी संस्था की छवि जनता के समक्ष अच्छी होती है तो जनता उस पर आंख मूंदकर विश्वास कर लेते हैं।
  • नीति व दृष्टिकोण: किसी संस्था की नीति और दृष्टिकोण का पता ना होने की वजह से कई तरह की भ्रांतियां पनपती है। लेकिन जनसंपर्क किसी भी संस्था के नीति, सिद्धांत और दृष्टिकोणों को लोगों तक पहुंचाने में मदद करती है।

Public Relations के क्या उद्देश्य हैं?

आसान शब्दों में कहें तो जनसंपर्क यानी की “Public Relations” (PR Full Form) का उद्देश्य है किसी भी संस्था, पार्टी, विभाग को लेकर जनता को आकर्षित करना तथा जनमानस को अपने पक्ष में करना। आइए जानते हैं जनसंपर्क के क्या उद्देश्य होते हैं:-

  • जनसंपर्क के जरिए किसी भी संस्था की प्रतिष्ठा और छवि को निर्मित किया जाता है।
  • विभिन्न संस्थाएं अपने उत्पादों सेवाओं को प्रचारित करने के लिए जनसंपर्क का इस्तेमाल करते हैं।
  • प्रचार के जरिए संस्था के उत्पादों और सेवाओं के प्रति लोगों को आकर्षित करना।
  • जनसंपर्क का तीसरा उद्देश्य होता है उक्त संस्था की साख को जनता के बीच निर्मित करना।
  • उस संस्था में कार्य करने वाले कर्मचारियों की समस्याओं को सुलझाना।
  • किसी भी संस्था के प्रति उत्पन्न होने वाली गलतफहमियों तथा प्रोपेगेंडा का खंडन करना।
  • विभिन्न प्रतिस्पर्धी संस्थाओं की नीतियों के बारे में जानकारी रखना।
  • जनसंपर्क के जरिए जनता को किसी संगठन के बारे में जा4नकारी दी जाती है बताया जाता है कि संगठन के क्या महत्व है तथा वह कौन-कौन से कार्य कर रहा है।

जनसंपर्क (Public Relations) के मुख्य कार्य बताएं

जनसंपर्क यानी की “Public Relations” (PR Full Form) के जरिए कई तरह के कार्यों का निष्पादन किया जाता है। इनके मुख्य कार्यों में संस्थाओं की साख का निर्माण करना, संस्थाओं को अन्य विभागों के साथ समन्वय स्थापित करना तथा जनमत का निर्माण करना शामिल है। इसके अलावा भी जनमत के कई कार्य होते हैं आइए जानते हैं उन्हें:-

  • जनमत का निर्माण करना: जनसंपर्क के जरिए जनमत का निर्माण किया जाता है इसके लिए लोगों तक संस्था की नीतियों को आकर्षक तरीके से पहुंचाया जाता है जिससे लोग उससे प्रभावित हो सके और उस संस्था के पक्ष में अपना मत दे सके।
  • संबंध बनाना: जनसंपर्क के जरिए नए संबंधों का निर्माण किया जाता है साथ ही पुराने संबंधों को बनाए रखने का प्रयास किया जाता है।
  • उत्पाद या सेवा का प्रचार-प्रसार: जनसंपर्क के जरिए उत्पाद और सेवा का प्रचार प्रसार होता है जिससे कि उनकी मांग में वृद्धि हो सके।
  • कार्यशाला और गोष्ठियों का आयोजन: जनसंपर्क के जरिए किसी संस्था का साख निर्माण किया जाता है जिसके लिए जनता की नीतियों उत्पाद और सेवाओं के बारे में लोगों को बताने तथा उनसे विचार-विमर्श करने के लिए कार्यशाला और गोष्ठियों का आयोजन किया जाता है जिससे कि संस्था, उपभोक्ता की मांग के अनुरूप वस्तुओं, सेवाओं तथा नीतियों को तैयार कर सके।
  • मीडिया प्रबंधन: जनसंपर्क संस्था के लिए मीडिया मैनेजमेंट भी करता है। यह समय-समय पर Press Conference का आयोजन करता है।
  • आपातकालीन प्रबंधन: जनसंपर्क किसी भी आपदा के दौरान उस स्थिति से बाहर निकालने के लिए योजनाओं का नियोजन करता है जिससे कि संस्था इन आपातकालीन स्थितियों से निपट कर पुनः नई शक्ति के साथ अपना कार्य चालू कर सके।

ये भी जरूर पढ़े:

निष्कर्ष (Conclusions) : उम्मीद है आपको हमारे लेख के जरिए PR Full Form क्या होता है? PR के उद्देश्य? PR के कार्य से संबंधित सभी प्रश्नों के हल मिल चुके होंगे। अगर आपको PR से संबंधित कोई और प्रश्न जानना है तो हमें Comment Section में बताएं। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो इसे सोशल मीडिया में शेयर करना ना भूले।