POS क्या है? POS मशीन कैसे काम करती है?

pos full form in hindi

दोस्तों जैसा हम जानते है की आज का जमाना स्मार्टफोन, Cloud Computingऔर RFID प्रौद्योगिकी का है। अगर कोई सामन खरीदता है तो वह Cash Payment ना करके Online mode या Credit/Debit Card जैसे अन्य Cashless तरीकों के माध्यम से भुगतान करना पसंद करता है। इसलिए आजकल सभी छोटे से बड़े व्यवसायों को अपनी दुकान पर POS मशीन की आवश्यकता होती है। क्या आपको पता है की POS मशीन क्या है, POS Full Form In Hindi क्या है, एक POS मशीन कैसे काम करती है और कैसे POS मशीन छोटे एवं बड़े दुकानदारों की मदद करती है। अगर आप इन सब सवालों का जवाब चाहते है तो इस लेख को अंत तक पढ़े।

वर्तमान समय में पैसे की लेनदेन के लिए Online माध्यम का उपयोग किया जाता है, हर जगह ATM Debit/Credit Card के द्वारा पैसे का भुगतान हो जाता हैं। हर जगह इन POS मशीन का उपयोग होने लगा है जैसे की Petrol Pump, राशन की दुकान, Malls, General Store, Bank Branch आदि। इस बात में कोई संदेह नहीं की वो जमाना बीत गया है जब आप कोई सामन खरदीते थे और Cash देकर भुगतान करते थे। भारत में Demonetization के बाद तो Online Payment / Cashless Payment का प्रचलन एकदम से बढ़ गया है। चलिए जानते है POS मशीन और उस से जुड़ी अन्य जानकारियों के बारे में।

POS Full Form In Hindi

POS को ‘Point Of Sale’ कहा जाता है, और POS Full Form In Hindi हैं ‘बिक्री केंद्र’। POS मशीन का इस्तेमाल केवल बिक्री (Sale) के लिए ही नहीं बल्कि Payment Processing, Inventory Management, Customer Management, Product Entry और करों की गणना, बिल बनाने आदि जैसे कामों के लिए भी किया जाता है।

POS Machine क्या होता है

POS Machine यह एक Computerized Machine है जिसका उपयोग Cash Register के स्थान पर किया जाता है। यह Machine Debit, क्रेडिट Card को पढ़ना, खरीदी की पुष्टि करना और ग्राहकों को सामान खरीदने की रसीद देने का काम करती है। जिन स्टोर पर POS Terminal का उपयोग किया जाता है वहां Cashier के स्थान पर POS Machine से काम किया जाता है। POS Machine अकेले ही नगद Transition करने में सहायक होती है, ग्राहक की खरीदारी का Receipt भी बनाकर दे देती है। POS Machine सारे काम मिनटों में कर देती है, जब पैसे गिनने और पर्ची बनाने की जरूरत नहीं होती है। क्योंकि Machine द्वारा हुए कार्य में कोई गड़बड़ी नहीं हो सकती है। POS Machine की निम्न कार्य होते हैं –

1. Debit /Credit Card Processing
2. Receiving payments
3. Making purchase Receipts
4. Creating inventory

इन चार कार्य के अलावा Store के प्रकार तथा व्यापार की प्रकृति के अनुसार POS Machine का कार्य भी बदल जाता है। देखा जाए तो एक राशन की दुकान और Petrol Pump पर लगा POS Terminal System से भिन्न होता है मगर इसकी संरचना और कार्य एक ही होते हैं।

POS की बनावट

जैसा कि हमने आपको बताया है POS एक Computerized Electronic Machine है यह Machine खुदरा व्यापारियों को बड़ी-बड़ी लाइनों से होने वाली परेशानी से निजात दिलाने का काम करता है, POS Hardware और Software के मिश्रण से यह Machine बनती है।

पीओएस मशीन – सिस्टम और प्रकार

POS मशीन आपके बहुत सारे कामों को आसान बना देती है और अलग अलग POS मशीन अलग-अलग सुविधाओं के साथ आती है। इसलिए POS मशीन को खरीदते वक्त आपको अपने काम की जरूरतों को ध्यान में रख के POS मशीन को खरीदना चाहिए। अब हम आपको बताने वाले है की System के आधार पर POS मशीन के कितने प्रकार है।

मोबाइल प्वाइंट ऑफ सेल (POS) System

यह एक ऐसा POS सिस्टम है जो Smartphone App या टैबलेट के जरिए काम करता है। यह मुख्य रूप से भुगतान की प्रक्रिया, इन्वेंटरी और ग्राहकों की जानकारी रखने में कारगर होता है। यह सिस्टम एक पोर्टेबल रसीद प्रिंटर के साथ भी हो सकता है। इस प्रकार के पास बिलिंग मशीन का इस्तेमाल Freelance या Contract Workers, किसान विक्रेताओं, स्ट्रीट वेंडर आदि करते है।

टैबलेट पॉइंट ऑफ़ सेल (POS) System

यह एक Simple POS System होता है जिसको टैबलेट या iPad का उपयोग करके स्थापित किया जा सकता है। यह एक सस्ता POS सिस्टम होता है, इसके लिए आपको टैबलेट या iPad और उसके साथ सॉफ्टवेयर या ऐप खरीदने की जरूरत होती है। इस प्रकार का पास सिस्टम को मोबाइल विक्रेता, छोटे रेस्टोरेंट, उपहार की दुकानें, छोटे खुदरा स्टोर, पिज्जा स्थान, कैफे, जूस जंक्शन, आइसक्रीम पार्लर, सैलून इत्यादि इस्तेमाल करते है।

टर्मिनल प्वाइंट ऑफ़ सेल (POS) System

इस प्रकार का सिस्टम आपको बड़े बड़े मॉल्स में किसी भी दुकान पर देखने को मिल जायेगा। इस प्रकार का सिस्टम हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर-आधारित सिस्टम हैं क्यूंकि इसमें क्लाउड-आधारित सॉफ़्टवेयर नकद दराज, बारकोड स्कैनर आदि शामिल होते है। इस प्रकार के POS System को वो दूकानदार स्थापित करते है जहाँ पर कस्टमर्स की भीड़ लगी रहती है।

स्वयं सेवा प्वाइंट ऑफ़ सेल (POS) System

जैसा नाम से ही पता चल रहा है, इस प्रकार के POS System एक विशिष्ट उद्देश्य के लिए स्थापित किये जाते है और इसको ग्राहक स्वयं Operate कर सकते है। उदाहरण के लिए, मूवी थिएटर में मूवी टिकट के लिए एक सर्विस कियोस्क हो सकता है जो की स्वयं सेवा प्वाइंट ऑफ़ सेल (POS) सिस्टम पर आधारित है।

pos full form in hindi
Point of Sale

POS Machine के प्रमुख अवयव

POS Machine के दो प्रमुख अवयव होते हैं।

1. POS Software- सारे POS Machine रसीद देने Card भुगतान ग्राहकों को पर्ची देने का कार्य करती है इन सारे कामों के लिए Software का उपयोग में लाया जाता है ताकि POS System व्यापार के Bank खाते में पैसा Transfer कर सके सामानों की जानकारी को पढ़ सके और Debit/Credit Card की पुष्टि करके भुगतान प्राप्त कर सके यह सारे कार्य POS Machine को POS Software से होती है।

A. On Site System – इस System में सारे डेटा को लोकल Machine में सेव किया जाता है इस Software को व्यापार करने वाले व्यक्तियों के कंप्यूटर System में इनस्टॉल किया जाता है इसमें इंटरनेट की भी आवश्यकता नहीं होती है लेकिन इसकी पूरी जिम्मेदारी व्यापारी की होती है।

B. Cloud Based System – इस System में Data Software Service Provider की Data Center में Store रहता है इसमें Internet की आवश्यकता पड़ती है इसको किसी भी Computer Web Browser पर Access किया जा सकता है।

2. POS Hardware – जरूरतों के हिसाब से POS Machine अलग-अलग उपकरणों से मिलकर बनता है पी ओ एस System Hardware डिवाइस के बिना बुरा नहीं समझा जाता है।

A. Monitor Touch Screen – यह एक साधारण व सरल Computer Screen Cash Register Button के साथ Touch Screen Monitor या एक Smartphone भी हो सकता है जिस उपकरण की मदद से Clerk Cashier Operator POS Software का उपयोग करते हैं वह Device Monitor होता है या POS Software Front होता है जिससे जो उपकरण को Operate करता है उसे दिखाई देता है।

B. Drawer – Drawer इसे आम बोलचाल की भाषा में गल्ला भी बोलते हैं यह लकड़ी या धातु का बना होता है इसमें Cash Voucher शायद Receipt आदि को संभाल कर रखा जाता है।

C. Printer – इसका उपयोग पर्ची यानी Purchase Receipt की छपाई के लिए होता है।

D. Barcode Reader – इसका उपयोग Store में रखे सामानों की देखरेख के लिए होता है तथा सामान की जानकारी POS Machine तक पहुंचाने के लिए होता है।

E. Card Machine – इस Machine का उपयोग Card पढ़ने के लिए होता है इसलिए इसे Card Machine भी कहते हैं यह Machine Internet द्वारा चलता है इसमें एक चुंबकीय पट्टी होती है जो Card Swipe होने पर सरकाकर वहां बाहर करने पर का Data को पड़ती है। Network Devices System – POS System को आपस में जोड़ने के लिए और Internet से Connect करने के लिए इस उपकरण की आवश्यकता होती है।

POS कितने प्रकार के होते है।

1. Retail POS System: Retail POS System खुदरा व्यापार में काम आने वाले POS System Retail POS Machine में आती है यह Machine खुदरा व्यापारियों को ध्यान में रखकर बनाया गया है। एक खुदरा POS System में बहुत प्रकार की सुविधाएं मुहैया कराने की क्षमता विकसित की जाती है एक अच्छे खुदरा POS में बहुत सारे Features होते हैं।

2. Small Business POS Systems: Small Business POS System का प्रयोग छोटे व्यापार के लिए इस तरह के POS System काम में आते हैं। चाय की दुकान, Coffee Shop , छोटा किराना दुकान इत्यादि जगहों पर ऐसे POS Machine लगाए जाते हैं इसमें कानूनी और वित्तीय रखरखाव की आवश्यकता नहीं होती है इसे Mobile App के जरिए काम में लिया जाता है।

3. Mobile POS System: Mobile POS System इसे MPOS भी कहते हैं MPOS का Full Form Mobile Point Of Sale होता है। यह Mobile App पर आधारित POS Machine होता है इसलिए केवल Smartphone पर ही Operate किया जा सकता है। Mobile POS System काफी सस्ता और बहुत लचीला होता है।

4. Cloud POS System: Cloud Based POS System यह Internet के जरिए अपनी Facility उपलब्ध कराता है Software Update रखरखाव में Feature आदि से छुटकारा दिलाने का कार्य Cloud Based POS System का है इसमें सारे Software व Service Provider के Data Center के द्वारा होते हैं सारे Process Data Center से होते हैं।

5. Restaurant POS Systems: Restaurant POS System Hotels या Restaurants के लिए बनाया गया POS System Restaurant PS System कहलाता है। यह Hotels व Restaurants की जरूरतों को ध्यान में रखकर बनाया जाता है इसमें बहुत सारे Features होते हैं जैसे कि Card Payment, Receipt, Kitchen Order, Food Cost इत्यादि कामों को करने में सक्षम होता है।

POS कैसे काम करता है।

एक POS Machine सभी जगह कुछ आधारभूत कार्य करता है, किसी भी व्यापारी के लिए POS System की Basic कार्यप्रणाली को समझना उसकी जानकारी रखना आवश्यक है। इस में सबसे पहले शर्त होता है व्यापार और प्रकृति की जरूरत व्यवस्थित क्रम को Set करना होता है, फिर Programing होती है, उसके बाद Payment Installation प्रशिक्षण आदि चीजों की जानकारी रखनी होती है। इसी आधार पर POS Machine कार्य करता है।

POS मशीन छोटे व्यवसायों की मदद कैसे करती है?

POS मशीन के उपयोग करने के बहुत से फायदे है, एक POS मशीन छोटे व्यवसायों की निम्नलिखित प्रकार से मदद करती है-

  • POS मशीन की मदद से आप डाटा को Live Access कर सकते है।
  • भुगतान प्रक्रिया POS मशीन की मदद से आसान एवं सटीक हो जाती है।
  • POS मशीन की मदद से Inventory Management का संचालन स्वतः हो जाता है।
  • POS मशीन Cash Register का काम करती है जिस से सटीक बिक्री इतिहास आपके पास हमेशा रहता है।
  • ग्राहक विपणन में मदद करती है।
  • अगर आपके पास बिना गड़बड़ी वाला बिक्री इतिहास रहता है तो करों (Tax) और लेखांकन को व्यवस्थित करने में आपको मदद मिलती है।
  • POS मशीन की मदद से स्टाफ प्रबंधन की प्रक्रिया भी आसान हो जाती है।

ये भी जरूर पढ़े:

दोस्तों आज की Post में हमने आपको जानकारी दी POS Full Form In Hindi, POS क्या है और पास मशीन कैसे काम करती है। आपको हमारा ये Post कैसा लगा हमे जरुर बताएं। साथ ही अगर आपके पास इस विषय से जुड़ी कोई सवाल या जिज्ञासा है तो आप वो भी हमें बता सकते हैं।