MIS क्या है? MIS के लाभ, MIS की पूरी जानकारी हिंदी में

0
13
mis full form in hindi

क्या आप जानते हैं MIS Full Form In Hindi क्या होता है? MIS क्या है? MIS के उद्देश्य क्या है? और MIS के कार्य क्या है? अगर नहीं, तो यह पोस्ट आपके लिए मददगार साबित होगी क्योंकि इस पोस्ट में हम MIS से जुड़ी तमाम जानकारियां बताएंगे। जैसा कि आप जानते हैं प्रबंधन की जानकारी का विश्लेषण करने के लिए MIS का इस्तेमाल होता है। इसके जरिए स्कूल, कार्यालय, HR जैसे विभिन्न क्षेत्रों के प्रबंधन में होता है। यह किसी भी संगठन के प्रबंधन को देखता है तथा उस संगठन के व्यावसायिक लाभ और हानि के बारे में जानकारी इकट्ठा करता है। यह Computer समेत कुछ अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के साथ मिलकर काम करता है। यही वजह है कि आज अलग-अलग संगठन MIS का इस्तेमाल सूचना उपलब्ध करवाने के लिए करते हैं तो आइए जानते हैं MIS से जुड़ी कई अन्य जानकारियों के बारे में:-

MIS Full Form In Hindi

MIS का Full Form “Management Information System” होता है और MIS Full Form In Hindi “प्रबंध सूचना प्रणाली” होता है।

MIS क्या है?

MIS एक ऐसा System है जिसे किसी भी संगठन को सूचना उपलब्ध करवाने के लिए बनाया गया है। प्रबंध सूचना प्रणाली उस प्रक्रिया का समूह है जिसके अंतर्गत किसी स्रोत से डाटा को इकट्ठा करना, उसे संकलित करना तथा उसे पठनीय बनाना शामिल होता है। इसका इस्तेमाल व्यापार के अध्ययन के लिए किया जाता है।

इसकी मदद से किसी भी संगठन के लिए निर्णय लेने में आसानी होती है। MIS के अंतर्गत Transaction System, Expert System, Executive Information System जैसे कई पहलू शामिल होते हैं। MIS का प्रमुख उद्देश्य यह होता है कि वह सही सूचना को सही जगह और सही रूप में प्रस्तुत करें। यह दैनिक और साप्ताहिक रूप से Information Report भी तैयार करती है। जिसमें संगठन से संबंधित जानकारियां होती हैं। इससे यह पता चलता है कि किसी भी संगठन की स्थिति क्या है? संगठन का Business कैसा चल रहा है या फिर उसका Business मंद क्यों हो रहा है। इन सब जानकारियों को हासिल करके विभिन्न कंपनियां और संगठन खुद को बेहतर बना सकते हैं। आइए MIS को समझने के लिए इसके तत्वों को जाने:-

MIS के तत्व | Elements Of MIS In Hindi

MIS को समझने के लिए इसके तत्वों से रूबरू होना जरूरी है। आइए जानते हैं MIS (MIS Full Form In Hindi- प्रबंध सूचना प्रणाली) के विभिन्न तत्वों को:-

  1. Management:- MIS का पहला तत्व प्रबंधन (Management) है। जिसके अंतर्गत किसी संगठन के लोग एक साथ मिलकर उस संगठन के उद्देश्य को पूरा करने के लिए कार्य करते हैं। इसके अंतर्गत निर्णयकर्ता या Decision Makers, सारे मैनेजमेंट कार्य को संभालते हैं। आप यह तो जानते ही होंगे कि मैनेजमेंट के अंतर्गत प्लानिंग, ऑर्गेनाइजिंग और कंट्रोलिंग जैसे तीन प्रमुख कार्य किए जाते हैं।
  • Planning: प्लैनिंग मैनेजमेंट का एक महत्वपूर्ण अंग है जिसके अंतर्गत इस बात का निर्धारण किया जाता है कि संगठन के उद्देश्य क्या है? तथा इन उद्देश्यों को संगठन किस तरह से पूरा किया जाने वाला है।
  • Organizing: इसमें प्लानिंग के तहत जो रणनीतियां बनाई जाती है उस रणनीति को Assign किया जाता है। बिना Organize किए किसी भी लक्ष्य की प्राप्ति नहीं की जा सकती।
  • Controlling: MIS का एक महत्वपूर्ण अंग है जिसमें सभी activities को मापा जाता है।
  • Information:- सूचना प्रत्येक संगठन के लिए जरूरी होता है क्योंकि जिस तरह बिना ईंधन के कोई गाड़ी नहीं चल सकती। इसी ठीक तरह बिना सूचना के कोई Organization ठीक से नहीं चल सकता।
  • System:- सिस्टम के जरिए Information Data में संसाधित होता है। यह सभी सूक्ष्म आपस में एक दूसरे से जुड़े होते हैं तब एक दूसरे पर निर्भर करते हैं जिससे एक कॉन्प्लेक्स इकाई बनती है।

MIS के लाभ

MIS का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसके जरिए सही जानकारी सही व्यक्ति को सही समय में पहुंचाई जाती है। MIS के इसी तरह के कई लाभ होते है। आइए जानते हैं इसके लाभों लाखों के बारे में:-

  • लेन देन (Transaction):-  MIS सिस्टम के जरिए आसानी से डाटा का आदान प्-दान किया जाता है इसके साथ ही यह data के रिकॉर्ड को भी Maintain करके रखता है।
  • रिकॉर्ड को मेंटेन करना (Record Maintenance): इसकी मदद से आप किसी भी संगठन या कंपनी के डाटा को आसानी से रिकॉर्ड करके रख सकते हैं। जिनका उपयोग बाद में किया जा सकता है।
  • निर्णय लेना आसान (Decision Making): MIS सिस्टम की मदद से आप सभी अलग-अलग जगहों से DATA को एकत्रित करते हैं तथा डाटा को आसानी से समझ कर उसकी जांच करते हैं जिससे किसी भी कंपनी के लिए कोई भी निर्णय लेना आसान हो जाता है।
  • संचार में आसानी (Communication) : MIS उपयोगकर्ता को कई तरह की सुविधाएं प्रदान करता है। यह यह Email और SMS की सुविधा भी प्रदान करता है जिनके माध्यम से कोई भी कंपनी अपने क्लाइंट के साथ आसानी से बातचीत कर पाती है।

यह थे MIS के कुछ लाभ अब आईए इसके उद्देश्यों को जानते हैं:-

MIS के उद्देश्य

MIS सिस्टम किसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए किया जाता है। आइए जानते हैं उसके मूल होते हैं उनके बारे में:-

  • Capturing Data : इसका प्रमुख उद्देश्य है डाटा को कैप्चर करना। इसकी मदद से किसी भी संगठन के आंतरिक और बाहरी स्रोतों में निर्णय लेने में योगदान होता है।
  • Information Storage: इसके जरिए डाटा को भविष्य के लिए संग्रह किया जाता है।
  • Processing Data: जिस डाटा को रिकॉर्ड किया जाता है उसे यह रणनीतिक, योजना, आयोजन, नियंत्रण लेने के लिए संसाधित करता है।
  • Information Retrieval: इसकी मदद से यदि उपयोगकर्ताओं को Data की जरूरत पड़ती है तो स्टोरेज से जानकारी को पन्ना प्राप्त करने में सक्षम बनाया जाता है।

MIS से सम्बंधित FAQ

Q.1 MIS क्या है?

Ans. MIS या “प्रबंध सूचना प्रणाली’’ (MIS Full Form In Hindi) एक ऐसा सिस्टम है जिसका इस्तेमाल किसी भी संगठन के डाटा को रिकॉर्ड करने, संग्रहित करने तथा संसाधित करने के लिए किया जाता है।

Q.2 MIS के कितने प्रकार है?

Ans. प्रबंध सूचना प्रणाली के प्रकारों में मानव संसाधन प्रबंधन प्रणाली, बिक्री और वितरण प्रणाली लेखा, और वित्त प्रणाली प्रक्रिया में नियंत्रण प्रणाली आदि शामिल है।

Q.3 MIS Software कौन से है?

Ans. MIS सॉफ्टवेयर कई तरह के होते हैं जिनमें Microsoft Dynamics, Clarity Professional MIS और Tharstern Limited शामिल है।

ये भी जरूर पढ़े:

निष्कर्ष (Conclusions):

इस Article में आपने जाना कि MIS Full Form In Hindi, MIS क्या है?(What is MIS in Hindi) MIS के उद्देश्य (What are the Objectives) MIS के लाभ क्या है? (What Are The Benefits Of MIS) आदि। उम्मीद है आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा। अगर आपको इस पोस्ट से संबंधित कोई प्रश्न है या आप इसमें कुछ जोड़ना चाहते है तो हमें Comment Section में बता सकते हैं और यदि आपको हमारे लिए कोई सुझाव है तो हमें जरूर बताएं। हमें आपके प्रश्नों सुझाव को जानकर खुशी होगी। अभी के लिए धन्यवाद।